इसमें कोई शक नहीं कि श्रीदेवी को कभी बॉलीवुड की लेडी सुपरस्टार का दर्जा प्राप्त था. फिल्ममेकर्स उन्हें अपनी फिल्म में साइन करने के लिए लाइन लगाकर खड़े रहते थे. श्रीदेवी का फिल्म में होना ही सक्सेस की गारंटी बन जाता था. उनके स्टारडम का ऐसा बोलबाला था कि उस ज़माने में जहां एक्टर्स को 1 करोड़ फीस में मिलना मुश्किल होते थे. वहीं, श्रीदेवी को फिल्ममेकर्स मुंह मांगे करोड़ों रुपए देने को तैयार रहते थे. श्रीदेवी की बेहतरीन एक्टिंग के आगे सब नतमस्तक हो जाया करते थे लेकिन इसके बावजूद श्रीदेवी काफी इनसिक्योर एक्ट्रेस थीं.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वह किसी भी साथी कलाकार की बेहतरीन परफॉरमेंस देख थोड़ी परेशान हो जाया करती थीं. ऐसा ही एक किस्सा मशहूर है जब श्रीदेवी फिल्म ‘गुमराह’ में दिग्गज एक्ट्रेस रीमा लागू के साथ काम कर रही थीं. रीमा श्रीदेवी के मां के किरदार में थीं और उनकी बेहतरीन एक्टिंग देख श्रीदेवी को उनसे जलन महसूस होने लगी. उन्हें लगा कि रीमा की बेहतरीन एक्टिंग उनके किरदार को टेकओवर कर लेगी और वो पीछे रह जाएंगी.ऐसे में श्रीदेवी ने एक चाल चली. उन्होंने फिल्म के मेकर्स से बात करके रीमा लागू का रोल कटवाने की प्लानिंग कर ली. श्रीदेवी बड़ी स्टार थीं और फिल्म के प्रोड्यूसर यश जौहर उनकी बात नहीं टाल सकते थे इसलिए रीमा के रोल पर श्रीदेवी के मनमुताबिक कैंची चल गई. हालांकि यश जी को पता था कि ये रीमा के साथ नाइंसाफी है इसलिए उन्होंने रीमा से एक वादा किया. उन्होंने रीमा से कहा कि आगे से अपने प्रोडक्शन हाउस में बनने वाली हर फिल्म में वही मां के किरदार में होंगी. उन्होंने ये वादा निभाया भी और डुप्लीकेट, कल हो ना हो और कुछ- कुछ होता है जैसी फिल्मों में रीमा ही मां के किरदार में दिखाई दीं.


आपको बता दें कि रीमा लागू को बचपन से ही एक्टिंग का शौक था क्योंकि उनकी मां खुद मराठी सिनेमा की एक आदी एक्ट्रेस थीं. एक्टिंग के एक ऑफर के चलते ही रीमा ने हाईस्कूल का एग्जाम तक छोड़ दिया था.रीमा ने सबसे ज्यादा सात फिल्मों में सलमान खान की मां का किरदार निभाया था. 18 मई 2017 को कार्डियक अरेस्ट के चलते उनका निधन हो गया था.