80-90 के दशक में श्रीदेवी का बॉलीवुड में बोलबाला था. वह बॉलीवुड की सबसे बड़ी एक्ट्रेस थीं और फिल्ममेकर्स उन्हें हाथोंहाथ लेते थे. श्रीदेवी पहली लेडी सुपरस्टार थीं और उनका फिल्म में होना ही सफलता की गारंटी मान लिया जाता था. श्रीदेवी जिस समय पीक पर थीं उस समय उनका नाम पहले मिथुन चक्रवर्ती के साथ जुड़ा था. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दोनों ने गुपचुप शादी भी कर ली थी. इनका रिश्ता तीन साल टिका था और तीन सालों में इनकी शादी टूट गई थी. शादी टूटने के बाद श्रीदेवी ने 1996 में जाने-माने फिल्म प्रोड्यूसर बोनी कपूर से शादी कर ली थी. इसके बाद श्रीदेवी दो बेटियों(जान्हवी और खुशी)की मां बनी थीं.

एक इंटरव्यू में बोनी ने श्रीदेवी के साथ अपनी लव स्टोरी का जिक्र किया था. उन्होंने श्रीदेवी के प्रति अपनी दीवानगी जाहिर करते हुए कहा था, अगर मैं शाहजहां होता तो उनके लिए ताज महल बनवा देता, अगर मैं कोई पेंटर होता तो उनके लिए कोई खूबसूरत पेंटिंग बना देता.लेकिन मैं फ़िल्में बनाता हूं इसलिए मुझे फिल्मों से ज्यादा उनके लिए कोई बेहतरीन गिफ्ट नहीं सूझा. बोनी ने आगे कहा, मैंने उन्हें सबसे पहली बार अपनी फिल्म मिस्टर इंडिया में काम करने के लिए अप्रोच किया था. मैं चेन्नई में उनके घर गया लेकिन पता चला कि वो सिंगापुर गई हुई हैं .


इसके बाद मेरी एक फिल्म के सेट पर उनसे पहली मुलाकात हुई. वो बेहद इंट्रोवर्ट थीं और अनजान लोगों से जल्दी बातचीत नहीं करती थीं और उस वक्त वह मुझसे भी अनजान थीं.उन्होंने टूटी फूटी इंग्लिश और हिंदी में मुझसे चंद शब्द कहे और मैं उनका कायल हो गया और मेरे अंदर उन्हें और जानने की ललक जागी.मैं उन्हें देखता ही रह गया. इसके बाद बात धीरे-धीरे आगे बढ़ी और हमने शादी कर ली. आपको बता दें कि श्रीदेवी से शादी करने के लिए बोनी ने अपनी पहली पत्नी मोना शौरी कपूर को तलाक दे दिया था. उस समय वह अंशुला और अर्जुन नाम के दो बच्चों के पिता थे. बोनी के इस फैसले का मोना और उनके बच्चों पर काफी खराब असर पड़ा था. मोना ने तलाक के बाद अकेले ही बच्चों की परवरिश की थी.