तारक मेहता का उल्टा चश्मा टीवी के दुनिया का सबसे पॉपुलर शो है, यह शो अपने नई नई कहानियों से लोगों का खूब मनोरंजन करता रहता है. इस शो में वैसे तो बहुत सारे किरदार नजर आते हैं लेकिन कई बार कहानी के हिसाब कई बार और भी कई किरदारों की एंट्री होती है.

Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah - Watch All Latest Episodes Online - SonyLIVवैसे तो जिन नए किरदारों की एंट्री शो में होती है वह इस शो में सिर्फ कुछ ही एपिसोड्स में नजर आती है, लेकिन कुछ ही एपिसोड्स के जरिए कुछ किरदार ऐसे होते है जो सीधा लोगों के दिलों में उतर जाते हैं, और ऐसे ही किरदारों में से एक किरदार है दीप्ती का.

Aradhana Sharma In yellow: SuperModelIndiaअगर आप शो तारक मेहता का उल्टा चश्मा के फैन है और इस शो को रेगुलर बेसेस पर देखना पसंद करते हैं, तो आपको इस शो में दिखाई गई दवाइयों के कालाबाजारी की कहानी के बारे में जरूर मालूम है, जिसके लिए पोपटलाल मिशन कला कौआ शुरू करता है. बता दें इसी कहानी के दौरान रिज़ॉर्ट में एक गेस्ट असिस्टेंट दीप्ती का किरदार दिखा था, जिसे आराधना शर्मा ने प्ले किया था.

Aradhana Sharma (@aradhanasharmaofficial): IndianSocialबता दें आराधना शर्मा आज एक बड़े मुकाम पर पहुंच चुकी हैं और उनकी काफी अच्छी फैन फॉलोइंग भी है, लेकिन यहाँ तक पहुँचने में उन्होंने बहुत सारी समस्याओं का सामना किया है और इसी में से समस्या थी कास्टिंग काउच.

I feel restless and irritated if I skip my workout even for a single day:  Aradhana Sharma - Times of Indiaबता दें अपने करियर पर बात करते हुए आराधना आपने साथ हुए कास्टिंग काउच का जिक्र किया था, उन्होंने बताया ये चार पांच साल पहले की बात है जब मैं पुणे रह कर पढ़ाई कर रही थी, मैं उस समय मॉडलींग में भी थी, और मेरी अच्छी पहचान भी थी तभी मुझे मेरे होम टाउन रांची में मुंबई के लिए कास्टिंग के बारे में मालूम पड़ा, फिर मैं पुणे से रांची पहुंच गई. और तभी मैं एक कमरे में स्क्रिप्ट रीडिंग कर रही थी और तभी वो आदमी मुझे इधर उधर छुने की लगा.

Aradhana Sharma: Fan-girl moment working with Dilip Joshiआगे आराधना बताती हैं कि मुझे समझ नहीं आ रहा था कि ये मेरे साथ क्या हो रहा है, मैं तुरंत वहाँ से रूम का दरवाजा खुला छोड़ भाग गई. वो कहती हैं मैं इस हादसे से इतना सहम गई थी कि इसके बाद मैं अपने पापा से भी असहज महसूस करने लगी थी, मैं उनके सामने खड़े होने से भी असहज महसूस करती थी.