बॉलीवुड फिल्मों में सख्त मां के किरदार में नज़र आने वाली ललिता पवार की लाइफ भी किसी फ़िल्मी कहानी से कम नहीं है. महज 9 साल की उम्र से फिल्मों में काम करने वाली ललिता पवार साल 1988 तक इंडस्ट्री में सक्रिय रहीं थीं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ललिता पवार फिल्मों में लीड एक्ट्रेस बनना चाहती थीं लेकिन एक घटना ने उनका सपना चकनाचूर कर दिया था. दरअसल, साल 1942 में शूट हो रही एक फिल्म ‘जंग ऐ आज़ादी’ की शूटिंग के दौरान एक्टर भगवान् दादा को एक सीन में ललिता पवार को चांटा मारना था. ख़बरों की मानें तो सीन के दौरान भगवान् दादा ने ललिता पवार को इतनी जोर से चांटा मारा कि उनके कान का पर्दा फट गया और उससे खून निकालने लगा यहां तक की ललिता पवार की आंख भी इस चांटे के बाद खराब हो गई थी.

कहते हैं इसके बाद ललिता पवार को तत्काल अस्पताल ले जाया गया लेकिन यहां गलत इलाज के चलते उन्हें और नुकसान हो गया. ललिता पवार का दायां हिस्सा पूरे 3 सालों तक लकवाग्रस्त रहा. इस घटना का अंजाम ये हुआ कि ललिता पवार का फिल्मों में एक्ट्रेस बनने का सपना हमेशा-हमेशा के लिए चकनाचूर हो गया. हालांकि, ललिता बेहद हिम्मती महिला थीं उन्होंने अपने साथ हुए इस हादसे के बाद हाथ पर हाथ रखकर बैठने के ब्याज नए अवसरों को तलाशा.

More : कैंसर से जूझ रहीं किरण खेर की उड़ी मौत की अफवाह, पति अनुपम खेर ने सोशल मीडिया पर बताई सच्चाई

आपको बता दें कि ललिता पवार ने कुछ सालों बाद ही इंडस्ट्री में ज़बरदस्त कमबैक किया लेकिन लीड एक्ट्रेस नहीं बल्कि करैक्टर रोल में, धीरे-धीरे ललिता पवार का जादू लोगों के सर चढ़ने लगा था. आपको बता दें कि रामानंद सागर के एपिक धारावाहिक रामायण में ललिता पवार ने ‘मंथरा’ का जो रोल निभाया था उसने उन्हें घर-घर में पॉपुलर कर दिया था. वहीं, ललिता पवार को उनकी पर्सनल लाइफ में भी अपनी बहन से धोखा मिला था. जी हां, ललिता पवार की शादी फिल्ममेकर गणपतराव पवार से साल 1932 में हुई थी. कहा जाता है कि ललिता की छोटी बहन का गणपतराव से अफेयर था जिसके चलते ललिता की शादी टूट गई थी. बहरहाल आपको बताते चलें कि ललिता ने इसके बाद फिल्ममेकर राज कुमार गुप्ता से शादी की थी और इस शादी से उन्हें हुए जय पवार जो कि एक फिल्म प्रोड्यूसर हैं.

More : जब एक किसिंग सीन ले आया था रणवीर-दीपिका को करीब, 6 साल के रिश्ते के बाद कर ली थी शादी