बॉलीवुड सेलिब्रिटीज फिटनेस के प्रति काफी सजग रहते हैं. जिम में घंटों वक्त बिताने से लेकर योग, मेडिटेशन और खान-पान की आदतों को लेकर उन्हें काफी सावधानी बरतनी पड़ती है. परिणीति चोपड़ा भी उन्हीं सेलेब्स में से हैं जो अपनी फिटनेस का खूब ख्याल रखती हैं. लेकिन एक ऐसा भी दौर था जब परिणीति ओवरवेट हुआ करती थीं और ये बात उन्हें काफी डरा गई थी.


हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में परिणीति से जब पूछा गया कि अपनी ज़िंदगी में से ऐसा कौन सा समय है जो आप याद नहीं करना चाहती हैं या उसे भूलना चाहती हैं तो परिणीति ने कहा, काश मैं उस वक्त को अपनी यादों से मिटा पाती जब मेरा बहुत वजन बढ़ा हुआ था और मैं ओवरवेट हुआ करती थी. मैं अपने कॉलेज के दिनों की बात का रही हूं. मैं तब बहुत ही अनहेल्दी हुआ करती थी और अपनी ऐसी हालत नहीं देखना चाहती थी. आज मैं अपनी जिंदगी और हेल्थ को लेकर बहुत सजग रहती हूं और सोचती हूं कि काश उस दौर को अपनी यादों से मिटा पाती. काश मैं उन दिनों की फोटो को भी हटा पाती क्योंकि वो मुझे डराती हैं.


परिणीति ने इसके अलावा भी अपनी ज़िंदगी के बुरे दौरों पर कहा, इसके अलावा मेरी ज़िंदगी में कुछ पड़ाव आए जब मुझे काफी लो फील होता था और इमोशनली मैं काफी कमजोर हो चुकी थी . उस दौर के कारण मैं वो इंसान बन पाई हूं जो मैं हूं तो मैं कभी उन बुरे अनुभवों को बदल नहीं सकती. लेकिन अगर मुझे अपनी ज़िंदगी में वापस जाने का मौका मिले तो मैं एक फिट पर्सन बनना चाहती या बचपन में मैं स्पोर्ट्स खेलना चाहती. मैं इन चीजों को अपनी ज़िंदगी में जरूर शामिल करती. परिणीति की फिल्म ‘द गर्ल ऑन द ट्रेन’ 26 फरवरी को नेटफ्लिक्स पर रिलीज हो रही है. इस फिल्म में वह मीरा कपूर नाम की एक ऐसी लड़की का किरदार निभा रही हैं जो एम्नेसिया से पीड़ित है और अपनी ज़िंदगी के कुछ साल भूल जाती है.उसकी याददाश्त से कुछ साल मिट जाते हैं जिसकी वजह से वह एक मर्डर मिस्ट्री में फंस जाती है. फिल्म हॉलीवुड फिल्म ‘द गर्ल ऑन द ट्रेन’ की हिंदी रीमेक है.