बॉलीवुड की वेटरन एक्ट्रेस नीना गुप्ता की ऑटोबायोग्राफी ‘सच कहूं तो’ लॉन्च हो गई है. इस बायोग्राफी में नीना ने अपनी पर्सनल लाइफ के ऐसे राज़ खोले हैं जो आज तक उनके फैन्स के सामने नहीं आए हैं. नीना ने किताब में एक किस्सा शेयर किया है जो उनक पेरेंट्स से जुड़ा है.

नीना ने लिखा है, मेरे काफी हिम्मती थे क्योंकि वह मेरी मां से शादी करने में कामयाब हुए थे जिनसे वो प्यार करते थे लेकिन वो एक कर्त्तव्यनिष्ठ बेटे भी थे जो अपने पिता की कोई बात नहीं टाल सकते थे. ऐसे में जब मेरे दादाजी ने पापा पर अपनी ही जाति की एक महिला से दूसरी शादी का दबाव डाला तो वो इनकार नहीं कर सके. मेरी मां पिताजी की दूसरी शादी से इतनी ज्यादा दुखी हो गई थीं कि वो अपनी जान देना चाहती थीं. उन्हें अपने पति की ये बेवफाई रास नहीं आई और वो सुसाइड की कोशिश करने लगीं लेकिन सौभाग्य से बच गईं. तब मुझे मुझे आया कि डिनर के बाद हर रात को पिता का घर से बाहर चले जाना नॉर्मल बात नहीं है. उनका किसी परायी महिला के साथ रात बिताना भी सही बात नहीं है. आपको बता दें कि नीना की मां शकुंतला गुप्ता हैं जो कि पंजाबी हैं और उन्होंने एक अन्य जाति के लड़के रूप नारायण गुप्ता से प्रेम विवाह किया था जिनकी उनके घर वालों ने जबरदस्ती दूसरी शादी करवा दी थी जिसके बाद उनके दूसरी शादी से दो बेटे हुए थे.

आपको बता दें कि इससे पहले नीना की किताब का एक और किस्सा सामने आया था जिसमें उन्होंने बताया था कि जब वह बिन शादी के प्रेग्नेंट हो गई थीं तो उनकी मदद करने के लिए फिल्ममेकर सतीश कौशिक सामने आए थे. उन्होंने उनके पेट में पल रहे बच्चे को अपना नाम देने के अलावा नीना से शादी की भी इच्छा जाहिर की थी लेकिन नीना इसके लिए राज़ी नहीं हुईं. इसके बाद नीना ने एक बेटी को जन्म को दिया जिसका नाम उन्होंने मसाबा रखा. मसाबा नीना और विवियन रिचर्ड्स की संतान है.नीना और विवियन एक समय लिव इन अफेयर में थे और इसी दौरान नीना प्रेग्नेंट हो गई थीं. इसके बाद विवियन ने नीना का साथ छोड़ दिया था और नीना ने फिर सिंगल मदर के तौर पर ताउम्र बेटी की परवरिश की थी.