सन 1994 में फिल्म आयी थी मोहरा जिसका मतलब होता है प्यादा, और फ़िल्म को डायरेक्ट कर रहे थे निर्देशक राजीव राय और इसकी स्क्रिप्ट लिखी गयी थी राजीव राय और शब्बीर बोक्सवाला के द्वारा। यह हिंदी फिल्म दुनिया की एक थ्रिलर फिल्म है जिसमें दमदार एक्शन, कड़कते गाने यानी वो सबकुछ है जो एक आम दर्शक को चाहिए होता है। फ़िल्म के लिये एक्टर चुने गए थे नसीरदुद्दीन शाह, अक्षय कुमार, सुनील शेट्टी और ऐक्ट्रिस के रूप में रवीना टंडन।

MOHRA

इस फिल्म में रवीना के आने का किस्सा बड़ा ही मज़ेदार और रोचक है। बता दें की सबसे पहले इस फिल्म के लिये श्रीदेवी को चुना गया था लेकिन श्रीदेवी चंद्रमुखी फिल्म में व्यस्त थी इसके बाद जब उन्होंने मना कर दिया तो यह रोल ऑफर किया गया था दिव्याभारती को, लेकिन शूटिंग के पांच दिन बाद ही दिव्या की कार हादसे में मौत हो गयी थी, जिसके बाद यह फिल्म मिली थी रवीना टंडन को।

MOHRA

पहले तो इस फिल्म के लिए रवीना ने मना कर दिया था लेकिन बाद में वो मान गयी और इसके बाद फिल्म की शूटिंग शुरू हुई।बता दें कि उस समय सुनील शेट्टी इस फिल्म से अपना डेब्यू कर रहे थे और अक्षय ने भी कुछ काम नही किया था। इससे पहले  राजीव राय, जैकी श्रॉफ ओर सनी देओल के साथ दो सुपर हिट फिल्में कर चुके थे इसके बाद फिल्म में दो नए नवेले एक्टर्स को  लेना थोड़ा अजीब लग रहा था। इसे लेकर अनिल कपूर ने कहा था की सनी देओल और जैकी श्रॉफ क्या ब्रेक फास्ट करने गए जो इस फिल्म में इन आधे अधूरे एक्टर्स को ले लिया है।

जाहिर सी बात है अगर आपके डेब्यू में ही कोई सीनियर इस तरह से आपके बारे टिप्पणी करे तो बुरा तो लगेगा ही लेकिन दोनों ने इस पर कुछ नही किया इसके बाद शूटिंग पूरी हुई और 1 जुलाई 1994 को यह फ़िल्म रिलीज हुई। और यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर जमकर हिट हुई। खासकर इस फ़िल्म के गाने जिनमे से “तू चीज़ बड़ी है मस्त मस्त, टिप टिप बरसा पानी, और न  कजरे की धार” ये वो गाने हैं जो आज भी हिट हैं।

MOHRA

आपको बता दे की जब इस फ़िल्म की शूटिंग चल रही थी तब रवीना को 102 डिग्री बुखार था क्योंकि यह सीन बारिश में शूट होना था, इसके बाद पानी की आर्टिफीसियल बारिश कराई गई थी जिसके बाद यह गाना शूट हुआ था।

इस फ़िल्म को बनाने के लिये 3 करोड़ 75 लाख रुपए का खर्च आया था इस फ़िल्म ने बॉक्स ऑफिस पर खूब धूम मचाई था और 22 करोड़ 65 लाख की अनुमानित कमाई की थी, यह उस साल की सबसे हिट फिल्मो में से एक थी।