मिस इंडिया रनर अप मान्या सिंह सम्मान समारोह में पिता के ऑटो में बैठकर पहुंचीं , छलक उठीं पेरेंट्स की आंखें

0
257

मिस इंडिया 2020 में देवरिया, उत्तर प्रदेश की मान्या सिंह ने रनर अप का खिताब जीतकर जो प्रसिद्धि पाई, वो मिस इंडिया जीतने वाली कंटेस्टेंट को भी नहीं मिली. मान्या रनर अप का खिताब जीतने के बाद कांदिवली मुंबई में एक सम्मान समारोह में पहुंचीं जहां उनका और उनके परिवार का सम्मान किया गया. खास बात ये रही कि इस सम्मान समारोह में मान्या अपने पिता के ऑटोरिक्शा में पहुंचीं.

मान्या के पिता ऑटोरिक्शा चलाते हैं. ऑटो में पीछे मां के साथ मान्या बैठीं और पिता ऑटो चलाकर उन्हें सम्मान समारोह में लेकर गए. इस दौरान काफी इमोशनल लम्हा देखने को मिला जिसका वीडियो वायरल हो रहा है. मान्या के खिताब जीतने से खुश उनके मां-बाप अपनी बेटी की कामयाबी पर रो पड़े. मान्या अपना क्राउन अपनी मां के सिर पर रख देती हैं और उनके पैर छू लेती हैं. ये देखकर उनके पिता रो पड़ते हैं. आपको बता दें कि मान्या काफी मुश्किलों का सामना कर इस मुकाम तक पहुंची हैं.

मान्या ने खिताब जीतने के बाद अपनी संघर्ष की कहानी हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में बयां की थी और कहा था , ‘ मैं कई रातों तक बिना कुछ खाए और सोए हुए गुजारी हैं, कई बार मैं पैदल चली ताकि ऑटो और बस के पैसे बचा पाऊं. मेरे इसी खून पसीने और आंसुओं ने मुझे मेरा सपना पूरा करने की हिम्मत दी जिसकी बदौलत मैं आज यहां पहुंच पाई हूं’.‘

ऑटो रिक्शा चलाने वाले पिता की बेटी होने के नाते मेरा बचपन बेहद गरीबी में कटा, मैं स्कूल नहीं जा पाई और बचपन में ही मुझे घर चलाने में माता-पिता की मदद करने के लिए काम करना पड़ता था.मैं दूसरों के घर में बर्तन धोती थी. दूसरों के उतारे कपड़े पहनकर मैंने अपना गुजारा किया. मेरी मां ने गहने बेचकर मुझे पढ़ाया ताकि मैं पढ़-लिखकर कुछ बन जाऊं.एक समय मैं दिन में पढ़ाई करती, शाम को लोगों के घरों में बर्तन धोती और फिर रात को कॉल सेंटर में काम करती थी. मां के संघर्ष की बदौलत में पढ़ पाई. मुझे इस मुकाम तक पहुँचाने में मेरे माता-पिता का बहुत बड़ा हाथ है. अभी तो शुरुआत है मुझे बहुत आगे जाना है.