9 अगस्त से कलर्स पर एक समय के पॉपुलर शो रहे बालिका वधु का दूसरा सीजन शुरू होने जा रहा है वहीं लोग दूसरे सीजन को देखने के लिए काफी उत्सुक है क्योंकि बालिका वधु के पहले सीजन ने लोगों के दिलों काफी खास जगह बनाई थी.

Avika Gor and Pratyusha Banerjee to perform for IGT finale21 जुलाई साल 2008 में शुरू होने के बाद से बाल विवाह पर आधारित यह बालिका वधु शो लगातार टीवी पर 31 जुलाई 2016 तक चला था. इस शो की लीड कैरेक्टर थी आनंदी जिसके बचपन का रोल ऐक्ट्रिस अविका गौर ने प्ले किया था वहीं बड़ी आनंदी का रोल प्रत्युषा बनर्जी ने प्ले किया था.

Here are Pratyusha Banerjee's last words to her father before committing  suicide | Bollywood News – India TVबता दें शो बालिका वधु से ऐक्ट्रिस प्रत्युषा बनर्जी को खूब पहचान मिली थी, लेकिन बता दें आज हालत यह है कि प्रत्युषा बनर्जी के घर वाले पाई पाई के मोहताज और एक कमरे में जिंदगी गुजारने को मजबूर हो चुके हैं.

बता दें 1 अप्रैल 2016 को खबर आई थी कि ऐक्ट्रिस प्रत्युषा बनर्जी ने आत्महत्या कर ली है. अचानक प्रत्युषा बनर्जी का आत्महत्या करना उनके माता पिता के साथ उनके फैंस के लिए काफी आश्चर्यजनक था. पोस्टमार्टम की रिपोर्ट अनुसार प्रत्युषा बनर्जी की मौत दम घुटने के कारण हुई थी.

Pratyusha Banerjee and Rahul Raj Singh's love story: What went wrong? -  Television Newsप्रत्युषा के मौत के बाद उनके माता पिता इस बात को यकीन नहीं कर पा रहे थे कि उनकी बेटी ने आत्महत्या की है. प्रत्युषा के बाद उनके माता पिता उनकी मौत को आत्महत्या नहीं ब्लकि हत्या बताया और इसका आरोप में उन्होंने प्रत्यक्षा ने बॉयफ्रेंड राहुल राज सिंह पर लगाया था, हालांकि कोर्ट ने उन्हें अग्रिम जमानत पर रिहा कर दिया था.

Pratyusha Banerjee's parents are penniless fighting her case, living in  single-room house: 'Lost everything' - Hindustan Timesप्रत्युषा के मौत को आज 5 साल का समय बीत चुका है और उनके माता पिता ने आज भी हिम्मत नहीं हारी है और वो लगतार अपनी बेटी को इंसाफ दिलाने में लगाने हैं, वहीं मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक प्रत्यक्षा अपने माँ बाप का एकलौता सहारा थी, वहीं उसके मौत के बाद उनके माता पिता कभी मजबूर और अकेले पड़ गए.

Pratyusha Banerjee's parents forced to live in one room, face financial  crunch post her demise | Tv News – India TVवहीं अगर आज की बात करें तो प्रत्युषा को इंसाफ दिलाने के लिए उनके माता पिता ने अपनी सारी दौलत खत्म कर दी है वहीं आज उनकी जिंदगी काफी परेशानियों से घिरी हुई है और वो एक कमरे में अपनी जिंदगी गुजारने को मजबूर हो गए हैं, वहीं आज वो पाई पाई के लिए मोहताज हो चुके हैं. वहीं मीडिया से बातचीत में उन्होंने बताया कि उनकी बेटी के जाने के बाद आज न उनके कोई सहारा है और न ही उनकी बेटी को इंसाफ मिल रहा है.