कहा जाता है दुनिया में बहुत लोग आते हैं और सारे लोग चले भी जाते हैं. लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो हमेशा हमेशा के लिए इतिहास के पन्नों में दर्ज हो जाते हैं. जी हां हम बात कर रहे हैं स्वर्गीय लता मंगेशकर के बारे में. लता मंगेशकर 6 फरवरी 2022 को इस दुनिया को अलविदा कह कर चली गईं. इसके बाद पूरे देश भर में लोग भावुक होने लगे और लता मंगेशकर को अपने अपने तरीके से श्रद्धांजलि देने लगे.

मात्र 6 वर्ष की उम्र में गाना गाने की शुरुआत करने वाली लता मंगेशकर ने ना सिर्फ हिंदी सिनेमा और बॉलीवुड इंडस्ट्री के लिए सुरीली गानों में स्वर दिया था. बल्कि लता मंगेशकर ने भोजपुरी सिनेमा में भी गाने गाए थे. भारत के अनमोल रत्नों की लिस्ट में शामिल लता मंगेशकर भले ही इस दुनिया में नहीं है. लेकिन अभी भी लोग उनकी यादों को ताजा कर रहे हैं और सोशल मीडिया के जरिए लता मंगेशकर की यादें ताजा हो रही हैं. लता मंगेशकर ने तेलुगू, तमिल, हिंदी, भोजपुरी जैसे अनेक भाषाओं में गाने गाए हैं.

लता मंगेशकर ने भोजपुरी सिनेमा को काफी अहम योगदान दिया है. बहुत कम लोग जानते हैं कि लता मंगेशकर ने ही भोजपुरी सिनेमा की पहली फिल्म के गाने को स्वर दिया था. भोजपुरी इंडस्ट्री की पहली फिल्म” हे गंगा मइया तोहे पियरी चढ़इबो’ काफी हिट हुई थी. और इस फिल्म ने भोजपुरी सिनेमा चाहने वालों का जबरदस्त मनोरंजन किया था. लेकिन माना जाता है कि इस फिल्म के पॉपुलर होने की एक बड़ी वजह यह भी थी कि इस फिल्म में लता मंगेशकर ने अपने सुरीले स्वर दिए थे.

यह भी पढ़ें – जानिए मौत से पहले लता मंगेशकर ने क्या कुछ कहा, क्या थे उनके आखरी शब्द?

आइए आपको भोजपुरी सिनेमा के कुछ ऐसे गाने बताते हैं जिनका रिकॉर्ड आज तक कोई नहीं तोड़ पाया है और आप इन्हें यूट्यूब पर जाकर सुन सकते हैं. ‘जा जा रे सुगना जा रे, कही दे सजनवा से’ और ‘रितिया परितिया’ लाली लाली होठवा से बरसे ललईया हो कि रस चुएला’, म्हारे करेजवा में शोर, जैसे गाने भोजपुरी सिनेमा में काफी पॉपुलर हैं. और आज भी इन गानों की वजह से इनको याद किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें – जब लता मंगेशकर के बदले कश्मीर भी देने के लिए तैयार हो गया था पाकिस्तान, कहा था हमें लता दीदी दे दो