साउथ की मशहूर फिल्म पुष्पा तो आप सबने देखी ही होगी हालांकि अब ये फिल्म सिर्फ साउथ की नहीं बल्कि पूरी दुनिया की मशहूर फिल्म बन चुकी है. इस फिल्म का खुमार लोगों पर खूब चढ़ा था. फिल्म में साउथ के सुपर स्टार अल्लू अर्जुन सहित रशमिका मंधाना नज़र आयीं थी. फिल्म में दिखाया गया था कि कैसे चंदन की लाल लकड़ी की गैर कानूनी तरीके से तस्करी दिखाई गई थी.

इस फिल्म को दुनिया भर में देखा गया था. फिल्म को खूब प्यार मिला था. जैसा की फिल्म में दिखाया गया था कि लाल चंदन की लकड़ियां कितनी कीमती हैं. बता दें असल में भी ये लाल लकड़ियां उतनी ही कीमती हैं और इन लकड़ियों की असल तस्करी को लेकर जगह जगह लोगों को पुलिस पकड़ती रहती है. बता दें चंदन की लकड़ियां दो तरह की होती हैं एक सफेद लकड़ी दूसरी लाल लकड़ी दोनो ही लकड़ियां बेहद कीमती होती हैं.

अंतर्राष्ट्रीय पृक्रति संरक्षण की ओर से एक डेटा जारी किया गया है जिसमे बताया गया है कि ये चंदन की लकड़ियां अब खत्म होने की कगार पर पहुंच गईं हैं. इन लकड़ियों को काफी अधिक मात्रा में काटा जाता है जिसके चलते ये विलुप्ति की ओर बढ़ने लगी हैं. साल 2018 में बताया गया था कि इन लकड़ियों के पेड़ सिर्फ पांच प्रतिशत ही बचे हैं.

अब आप सोच रहे होंगे कि अगर ये लकड़ियां इतनी ही कीमती हैं तो फिल्म पुष्पा में इतनी सारी लकड़ियां कहा से लायी गईं और इनका खर्चा कितना हुआ होगा. तो आपके बता दें कि फिल्म पुष्पा की शूटिंग के लिए जिन लकड़ियों का इस्तेमाल किया गया था वो सारी लकड़ियां नकली थी और वो सिर्फ फिल्म की शूटिंग के लिए इस्तेमाल की गईं थी.

यह भी पढ़ें – पुष्पा फिल्म के श्रीवल्ली गाने का इंग्लिश वर्ज़न आया सामने, सोशल मीडिया पर काफी वायरल है नया वर्ज़न

इस चंदन की लकड़ी को टोराकॉर्पस सन्टनस के नाम से जाना जाता है. इन लक़डियों की कीमत 3000 रूपए प्रति किलो से शुरू होती है. इन लकड़ियों से जुड़े कई मामले सामने आते रहते हैं. बीते साल चंदन की लकड़ी से जुड़े 117 मामले दर्ज किये गये थे. इन मामलों में कुल 508 करोड़ रूपए की लकड़ी जब्त की गई थी.

यह भी पढ़ें – आखिरकार केआरके पर भी चढ़ ही गया पुष्पा का खुमार,  ए बुढ़ऊ, कमल नाम सुनकर फ्लावर समझा क्या?’ कहते आए नज़र