आज हम बात करने जा रहे हैं एक ऐसी शख्सियत की जिनकी कहानी सुन आप सोचने पर मजबूर हो जाएंगे. जी हाँ, ये कहानी है बिग बॉस 5 में नजर आ चुकीं कालबेलिया डांसर गुलाबो सपेरा की जिन्हें पैदा होते ही ज़िंदा ज़मीन में गाड़ दिया गया था. दरअसल, गुलाबो का जन्म राजस्थान के अजमेर के पास स्थित कोटड़ा गांव में हुआ था जहां लड़कियों का जन्म एक अभिशाप के रूप में देखा जाता है और उन्हें पैदा होते ही मार दिया जाता है ताकि उनकी पढ़ाई-लिखाई, शादी ब्याह के खर्च और उनके पालन-पोषण की ज़िम्मेदारी से बचा जा सके.

ऐसे में जब गुलाबो का जन्म हुआ तो उन्हें भी ज़मीन में ज़िंदा गाड़ने के लिए गांव वाले ले गए. तब वह केवल एक दिन की थीं. वह तकरीबन सात घंटे तक ज़मीन के अंदर दफन रहीं लेकिन इसे भगवान का चमत्कार कहेंगे या गुलाबो के जीने का जज़्बा जो कि उनकी सांसे चलती रहीं. सात घंटों तक मौत से जूझने के बाद गुलाबो ज़मीन से ज़िंदा निकाल ली गईं. उनकी मां और चाची ने वो जगह ढूंढ निकाली जहां गुलाबो को गाड़ा गया था.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Gulabo Sapera (@gulabosapera)

उन्होंने गुलाबो की कब्र को खोदा क्योंकि लगातार एक बच्ची के रोने की आवाज़ से उन्हें हिंट मिल गई थी. बहरहाल, गुलाबो ज़िंदा लौटीं और अपनी अन्य तीन बहनों के साथ उनकी भी परवरिश होने लगी. गुलाबो के पिता अपनी बेटियों से बहुत प्यार करते थे. वह देवी मां के उपासक थे इसलिए बच्चियों को उनका ही स्वरुप मानते थे. जिस दिन गुलाबो को ज़िंदा ज़मीन में गाड़ा गया था उस दिन उनके पिता गांव से बाहर गए हुए थे.

More : छोटे पर्दे पर मां तो असल ज़िंदगी में बेब हैं ये टेलीविजन अभिनेत्रियां, तस्वीरों में देखिए इनके ग्लैमरस लुक्स

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Gulabo Sapera (@gulabosapera)

उनके पिता पेशे से सपेरे थे और छह महीने की उम्र से वह गुलाबो को भी अपने साथ ले जाते थे. पिता को सांप नचाता देख गुलाबो भी प्रभावित होने लगीं. धीरे-धीरे वह भी सांप से लिपटकर उनके साथ डांस करने लगीं. जब गुलाबो एक सालकी हुईं तो वह गंभीर रूप से बीमार पड़ गईं औ डॉक्टरों ने जवाब दे दिया लेकिन गुलाबो एक बार फिर मौत के मुंह से बाहर आईं और उनके पिता ने उनके असली नाम धनवती को बदलकर गुलाबी कर दिया.

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Gulabo Sapera (@gulabosapera)

धीरे-धीरे बड़ी होती गुलाबो का रुझान कालबेलिया नृत्य की तरफ हुआ और वह सांप के साथ कलाबाजियां दिखाते हुए डांस करने लगीं. लोग उन्हें डायन तक बुलाने लगे क्योंकि वो ज़मीन से ज़िंदा निकल आई थीं लेकिन गुलाबो ने इन बातों पर ध्यान नहीं दिया. पहले राजस्थान, फिर देश और फिर विदेश में उनका नृत्य लोकप्रिय हो गया. 2016 में उन्हें देश के सर्वोच्च सम्मानों में से पद्मश्री से नवाजा जा चुका है.

More : कभी ऐसी दिखती थीं सारा अली खान और बाकी एक्ट्रेसेस, Fat to Fit जर्नी देख आप भी हो जाएंगे हैरान