बॉलीवुड एक्ट्रेस और मिस यूनिवर्स रहीं लारा दत्ता का आज जन्मदिन (16 अप्रैल) है. लारा दत्ता का जब भी नाम आता है तो दिमाग में जो सबसे पहली छवि बनती है वह है मिस यूनिवर्स की उनकी ताजपोशी. जी हां, लारा दत्ता ने साल 2000 में मिस यूनिवर्स का खिताब जीत देश का नाम रोशन किया था. इससे पहले यह खिताब भारत के लिए एक्ट्रेस सुष्मिता सेन ने साल 1994 में जीता था. आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि कैसे लारा दत्ता के एक जवाब ने उन्हें मिस यूनिवर्स बना दिया था.

दरअसल, साल 2000 में साइप्रस में मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा था. इसके फाइनल राउंड में भारत की लारा दत्ता, वेनेजुएला की क्लौडिया मोरेनो और स्पेन की हेलेन लिंडस पहुंची थीं. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, साइप्रस में जब मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा था तब ठीक आयोजन स्थल के बाहर इसके खिलाफ प्रदर्शन हो रहे थे. प्रदर्शनकारियों का तर्क था कि यह आयोजन महिलाओं के सम्मान के खिलाफ है.

ऐसे में मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता के जजों ने फाइनल राउंड में आई तीनों कंटेस्टेंट से एक सवाल किया. सवाल था कि इस वक्त लोग इस प्रतियोगिता के खिलाफ बाहर प्रदर्शन कर रहे हैं उन्हें आप कैसे कन्विंस कर सकती हैं ? इस सवाल के जवाब में लारा ने कहा था, ‘मुझे लगता है मिस यूनिवर्स जैसी प्रतियोगिता महिलाओं के लिए एक ऐसा प्लेटफ़ॉर्म है जो उन्हें आगे बढ़ने में मदद करता है, चाहें वह किसी भी फील्ड में बढ़ना चाहें जैसे एंटरप्रेन्योरशिप, आर्म्ड फोर्सेज, पॉलिटिक्स आदि. यह हमें अपनी बात रखने, चॉइस बताने और ओपिनियन रखने का मौक़ा देता है जिससे हमें सशक्त और स्वतंत्र बनने में मदद मिलती है’.

आपको बता दें कि लारा का जवाब जजों को सबसे अधिक पसंद आया था और इसके बाद लारा की बतौर मिस यूनिवर्स ताजपोशी कर दी गई थी. लारा ने इसके बाद लगभग दो दशकों तक बॉलीवुड में काम किया इस दौरान उनकी कई यादगार फ़िल्में जैसे- पार्टनर, डॉन 2, हाउसफुल और सिंह इस ब्लिंग दर्शकों को देखने को मिलीं. बताते चलें कि लारा ने साल 2011 में टेनिस स्टार महेश भूपति से शादी की थी और इनकी एक प्यारी से बेटी भी है जिसका नाम सायरा है.