बॉलीवुड अभिनेता अर्जुन कपूर अपनी पर्सनल लाइफ पर खुलकर बात करने से नहीं हिचिकिचाते हैं. हाल ही में उन्होंने एक इंटरव्यू में अपने पिता बोनी कपूर की श्रीदेवी से दूसरी शादी के बाद ज़िंदगी में आए बदलावों पर खुलकर बात की है.
उन्होंने कहा, ‘मेरे पिता वर्किंग मैन थे और मेरी मां के साथ उनकी नहीं बनी तो उन्होंने दोबारा शादी करने की सोची और अपनी दूसरी फैमिली बना ली. मैं उनके साथ उतना वक्त नहीं बिता पाया जितना बिताना चाहता था. मेरी परवरिश में मेरी नानी, मेरी मां और मेरी बहन का सहयोग ज्यादा था. मेरी मां के मन में कभी मेरे पिता के प्रति ख़राब फीलिंग्स नहीं थी जबकि उनके पास हमारे मन में पिता के खिलाफ ज़हर घोलने की पूरी आज़ादी थी लेकिन उन्होंने हमें कभी अपने पिता के खिलाफ नहीं भड़काया.’

‘शायद यही वजह है कि मैं थोड़ा खुले विचारों का हूं. मेरी मां ने मुझे आसानी से कह दिया था, तुम्हारे पिता एक नई दिशा में जाना चाहते थे इसलिए उन्होंने हमारा साथ छोड़ दिया. मुझे ऐसा कोई दिन याद नहीं जब मेरी मां ने पिता के खिलाफ कोई निगेटिव बात कही हो. यही मैंने उनसे सीखा. आज, मैं बड़ा हो गया हूं और कुछ अपने पिता की तरह कुछ हद तक बन पाया हूं. अब मुझे समझ में आता है कि मैं अपने पिता को इतना क्यों चाहता हूं. उनमें कई कमियों के बावजूद मज़बूती है. वह बेहद प्यारे इंसान हैं इसलिए मेरी मां उन्हें चाहती थीं. अर्जुन ने ये भी कहा कि वो उस चीज़ को सही नहीं मानते जो उनके पिता ने की. वह श्रीदेवी के साथ पिता की दूसरी शादी को कभी सही नहीं ठहरा सकते हैं. अर्जुन ने कहा, मैं नहीं कह सकता कि जो हुआ उससे मैं ओके था लेकिन मैं समझता हूं. मैं नहीं कह सकता कि ठीक है, होता है.’

आपको बता दें कि बोनी कपूर की पहली शादी मोना कपूर से हुई थी जिसके बाद वो दो बच्चों(अर्जुन और अंशुला) के पिता बने थे. इसके बाद बोनी ने मोना को तलाक देकर श्रीदेवी से दूसरी शादी कर ली थी.अर्जुन और श्रीदेवी के रिश्ते कभी ठीक नहीं रहे लेकिन 2018 में उनकी मौत के बाद अर्जुन ने उनके अंतिम संस्कार में शामिल होकर सारे गिले -शिकवे भुला दिए थे और जान्हवी और खुशी को अपनी बहन के तौर पर स्वीकार कर लिया था.