बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता अमज़द खान अपनी अदाकारी और विलेन के रोल के लिए पहचाने जाते थे. अमज़द खान भले अब हमारे बीच न रहे हों लेकिन उनकी फिल्में यादों के तौर पर आज भी हमारे बीच मौजूद हैं, और हमेशा रहेंगी. फिल्म शोले में गब्बर का किरदार निभाने वाले अमज़द को उस फिल्म से एक अलग ही पहचान हासिल हुई थी. लेकिन हमेशा उनके पास वो पहचान और पैसा नहीं था. उन्होंने अपनी जिंदगी में कई तरह से उतार चढ़ाव देखे हैं. एक बार उनके पास इतने पैसे नहीं थे कि वो अपनी पत्नी को हॉस्पिटल से डिस्चार्ज करवा सकें. तो क्या था पूरा माजरा और कैसे हुआ था समाधान

पैसों की वजह से पत्नी और बच्चे को हॉस्पिटल से नहीं करवा पाए थे डिस्चार्ज

अमज़द खान की जिंदगी हमेशा एक जैसी नहीं रही हैं. उन्होंने अपनी जिंदगी में कई बुरे दिन भी देखे हैं. एक बार उनकी पत्नी हॉस्पिटल में भर्ती हो गई थी. दरसल, अमज़द खान पिता बने थे. और उनकी पत्नी बच्चे की डिलीवरी के लिए हॉस्पिटल में एडमिट हुई थी. पत्नी के एडमिट होने के बाद अमज़द खान के पास इतने पैसे नहीं थे कि वो उनको हॉस्पिटल से छुट्टी दिलवा सके.

ये भी पढ़ें पहले डैनी को ऑफर हुआ था गब्बर का रोल लेकिन जानिए अमजद खान कैसे बन गए ‘शोले’ के गब्बर?

अमज़द खान की इस बात की खबर फिल्म प्रोड्यूसर चेतन आंनद को लगी. चेतन फौरन अमज़द खान के पास हॉस्पिटल पहुचे और वहां उन्होंने हॉस्पिटल का बिल भरके उनकी पत्नी और बच्चे को डिस्चार्ज करवाया. उस वक़्त चेतन आंनद, अमज़द खान के लिए किसी फरिशते से कम साबित नहीं हुए. इस बात की जानकारी हम तक अमज़द खान के बेटे शादाब खान ने पहुचायी थी.

शादाब खान ने अपने एक साक्षात्कार में बात करते हुए बताया था कि, ‘जिस दिन मेरा जन्म हुआ था उस वक्त मेरे पिता के पास इतने पैसे नहीं थे कि वो हम दोनों को हॉस्पिटल से डिस्चार्ज करवा सकें. मेरे पिता की इस बेबसी देखकर मां रोने लगी थी. और पिता जी शर्म की वजह से अपना चेहरा तक मेरी मां को नहीं दिखा पा रहे थे. इतना ही नहीं वह हॉस्पिटल भी नहीं आ रहे थे. जब डायरेक्टर/प्रोड्यूसर चेतन आनंद को इस बात की जानकारी हुई तब उन्होंने हॉस्पिटल आकर 400 की फीस भरी और हमे हॉस्पिटल से डिस्चार्ज दिलवाया.’

फिल्मों के विलेन असल जिंदगी में थे बिल्कुल शांत

फिल्मों में अक्सर विलेन के रूप में दिखाने वाले अमज़द खान असल जिंदगी में बिल्कुल अलग शख्सियत थे. दरसल, अमज़द खान रियल लाइफ में बिल्कुल शांत स्वभाव के सुलझे हुए इंसान थे. फिल्म शोले में दिखने वाले गब्बर असल जिंदगी के गब्बर नहीं थे. बता दें साल 1992 में दिल का दौरा पड़ने से उन्होंने इस दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कहे दिया था. अमज़द खान ने 52 साल की उम्र में अपना आखरी सांस ली थी.

ये भी पढ़ें शोले के गब्बर के प्यार में इस कदर पागल थी यह एक्ट्रेस की आज तक नहीं की है शादी