बॉलीवुड के लीजेंड्री स्टार अमरीश पुरी को लेकर उनकी पोते वर्धन पुरी ने बेहद दिलचस्प खुलासे किए हैं. वर्धन पुरी ने हाल ही में एक इंटरव्यू दिया है जिसमें उन्होंने अपनी दादाजी, फिल्म इंडस्ट्री के सबसे फेमस ‘विलन’ अमरीश पुरी के बारे में काफी सारी ऐसी बातें बताई हैं जो अमूमन लोगों को नहीं पता हैं. वर्धन के अनुसार उन्होंने अपने दादाजी से जुड़े यह दिलचस्प किस्से उनके (अमरीश पुरी के) दोस्तों से सुने हैं.

ऐसा ही एक किस्से सुनाते हुए वर्धन कहते हैं कि मेरे दादाजी अमरीश पुरी काम को लेकर बेहद सीरियस और पंचुअल थे. सतीश कौशिक की एक फिल्म से जुड़ा एक किस्सा साझा करते हुए वर्धन कहते हैं, ‘एक बार सतीश कौशिक की एक फिल्म की शूटिंग चल रही थी, इसमें दादाजी का भी रोल था, दादाजी का रोल महज 15 मिनट का था लेकिन दूसरा स्टार अपनी लाइन ठीक से बोल नहीं पा रहा था,इसके चलते हुआ ये कि जो काम 15-20 मिनट में ख़त्म होना था उसे होने में 4 घंटे से ज्यादा का वक्त लग गया’.

वर्धन के अनुसार, ‘15 मिनट के काम में 4 घंटे लगने पर दादाजी अमरीश पुरी फिल्म के सेट पर ही आग बबूला हो उठे थे और वहां से जाने लगे, उन्हें जैसे-तैसे सतीश जी ने संभाला’. वर्धन कहते हैं कि यह किस्सा खुद उन्हें सतीश कौशिक ने सुनाया था. दिवंगत स्टार अमरीश पुरी से जुड़ी कुछ अन्य यादें भी वर्धन ने इस इंटरव्यू में साझा की हैं. एक्टर के अनुसार, ‘मैं अपने दादाजी को काफी सीरियस नेचर का समझता था लेकिन मुझे पता चला कि उन्हें तो शरारत करना पसंद था, कहते हैं वो पैकअप के बाद अक्सर लोगों के साथ प्रैंक करते थे’.

वहीं, वर्धन पुरी ने इससे पहले दिए एक अन्य इंटरव्यू में अपने दादाजी के बारे बताते हुए कहा था कि उन्हें अपना बर्थडे सेलिब्रेट करना पसंद नहीं था. वर्धन के अनुसार, ‘बर्थडे पर दादाजी हमेशा फैमिली डिनर और घर पर बैठकर फ़िल्में आदि देखते थे, उन्हें सत्यजीत रे और अशोक कुमार की फ़िल्में पसंद थीं’. आपको बता दें कि 12 जनवरी 2005 को अमरीश पुरी इस दुनिया को हमेशा-हमेशा के लिए अलविदा कह गए थे. वर्धन ने भी ‘ये साली आशिकी’ से बॉलीवुड डेब्यू किया था.