6 फरवरी 2022 को स्वर कोकिला लता मंगेशकर का निधन हो गया था. और इनके अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए क्रिकेट और बॉलीवुड इंडस्ट्री और राजनीति से जुड़े तमाम बडे लोग पहुंचे थे. इस दौरान शाहरुख खान भी अपनी मैनेजर पूजा ददलानी के साथ लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि पहुंचे थे.

वहीं शाहरुख खान ने लता मंगेशकर को फातिहा पढ़कर श्रद्धांजलि दी और उस दौरान इस पर काफ़ी विवाद बढ़ गया था. और शाहरुख खान को लोग जमकर ट्रोल भी करने लग गए थे. हालांकि, अब यह मामला ट्रोलींग से ऊपर बढ़कर कोर्ट में भी पहुंच चुका है. हाल ही में शाहरुख खान के खिलाफ बिहरा के हाजीपुर में एक याचिका दाखिल की गई है.

इस याचिका में आर्यन नामक शख्स ने बताया है कि शाहरुख खान ने लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि देने के दौरान लता मंगेशकर के पार्थिव शरीर पर फातिहा पढ़ा और इसके बाद उन पर फूंक मारी. इससे हिंदू भावनाओं को काफी ठेस पहुंची हैं. शाहरुख खान पर मुकदमा दर्ज कराने वाले शख्स ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि मुझे अपने देश की कानून व्यवस्था और न्यायालय पर पूरा भरोसा है.

मुझे उम्मीद है कि इस मामले को लेकर प्रशासन और सरकार शाहरुख खान पर हिंदू लोगों की मान्यताओं को तोड़ने के आरोप में कार्यवाही करेगी. आपको बता दें, आर्यन सिंह नामक शख्स ने अधिवक्ता रमेश सिंह चंदेल के द्वारा शिकायत दर्ज कराई है. उसके बाद रमेश सिंह चंदेल ने कहा कि फिलहाल कार्यवाही वर्चुअल मोड में चल रही हैं. यह विवाद बहादुर दंड संहिता की धारा 295, 295A, 500 और 504A के अंतर्गत दायर कराया गया है.

यह भी पढ़ें – आर्यन खान का बदला रूप, शाहरूख खान को ही पहचानने से किया इंकार, नहीं मानते पिता

बता दें, मुंबई के शिवाजी पार्क में लता मंगेशकर के पार्थिव शरीर को हिंदू रीति रिवाज से अंतिम श्रद्धांजलि दी गई थी. लता मंगेशकर के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए कई नामचीन हस्तियां पहुंची थी और इस दौरान शाहरुख खान भी अपनी मैनेजर के साथ पहुंचे थे लेकिन जिस तरह से उन्होंने लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि दी इसकी वजह से वह विवादों में आ गए. अब देखना होगा कि शाहरुख खान इस मामले से कैसे निकलते हैं. और यह मामला कितना आगे बढ़ता है.

यह भी पढ़ें – भोजपुरी सिनेमा में भी लता मंगेशकर ने दी थी अपनी सुरीली आवाज़, इस इंडस्ट्री की पहली फिल्म के लिए गाया था गाना